उत्तर प्रदेशपूर्वांचल

माकपा, भाकपा, भाकपा ( माले) , आई पी एफ, ने काला दिवस मनाते हुए गांधी पार्क में दिया धरना

*माकपा, भाकपा, भाकपा ( माले) , आई पी एफ, ने काला दिवस मनाते हुए गांधी पार्क में दिया धरना*

चन्दौली । चकिया: माकपा, भाकपा, भाकपा माले, आई पी एफ, सहित जनवादी महिला समिति , एवं,मजदूर किसान मंच ने गाधीं प्रतिमा के पास काला दिवस मनाते हुए धरना दिया!

धरने की शुरुआत गांधी जी व लाल बहादुर शास्त्री जी को याद करते हुए गाधी प्रतिमा पर माला पहना कर किया गया!

धरने पर हाथरस की पीड़िता की मौत पर गहरा दुख व्यक्त किया है व दलों ने इस बात पर गहरा आक्रोश व्यक्त किया कि पीड़िता की दिल्ली में मौत के बाद गाँव ले जा कर प्रशासन ने उसकी जबरिया अन्त्येष्टि कर दी और परिवार को अंतिम दर्शन तक से वंचित कर दिया। उन्होने सवाल खड़ा किया कि योगीराज में प्रशासन किस हद तक तानशाह और असंवेदनशील हो चुका है।

धरने पर वक्ताओं ने कहा कि इस पूरे प्रकरण में पुलिस प्रशासन ने जो षडयंत्र पूर्ण स्थिति अख़्तियार की और पीड़िता के साथ हुये अन्याय को दबाने की कोशिश की वह राज्य सरकार के माथे पर कलंक का टीका है। उत्तर प्रदेश में बलात्कार, बलात्कार के बाद हत्या एवं दलित उत्पीड़न की प्रतिदिन अनेक वारदातें हो रही हैं। योगी सरकार न इन जघन्य वारदातों को रोक पा रही है न अन्य अपराधों को। उत्तर प्रदेश जंगलराज बन चुका है। यह सरकार और सरकार के मुखिया सत्ता में बने रहने का नैतिक अधिकार खो बैठी है।
अब स्थिति यह है कि हाथरस में पीड़िता के गाँव बूलगड़ी को पुलिस छावनी बना दिया गया है और सारे रास्ते सील कर दिये गए हैं। भाजपा को छोड़ किसी भी जन प्रतिनिधि तथा राजनेता को वहाँ जाने तक नहीं दिया जा रहा। लोगों में उबाल है और वे सड़कों पर उतर रहे हैं, लेकिन उन्हें पुलिस प्रशासन के बल पर दबाया जा रहा है। लाठीचार्ज आदि किया गया है। अन्य जगह भी विरोध प्रदर्शनों पर बल प्रयोग किया जा रहा है। आज हम सब इसकी निन्दा करते हैं।

धरना देकर मांग करते हैं कि दोषियों को कड़ी सजा मिले और फास्ट ट्रेक में सही पैरवी हो सके इसके लिए जरूरी है कि पुलिस प्रशासन के जिम्मेदार लोगों को चिन्हित कर तत्काल हटाया जाये। पीड़ित परिवार को 20 लाख का अतिरिक्त मुआबजा दिया जाये।
हम पुनः दोहरा रहे हैं कि मुख्यमंत्री कानून व्यवस्था को संभालने में पूरी तरह असफल साबित हुये हैं। अतएव उन्हें त्यागपत्र दे देना चाहिये।

वक्ताओं ने कहा कि पीड़िता को न्याय दिलाने, महिलाओं और दलितों का उत्पीड़न रोके जाने, नफरत और नफरत के आधार पर दमन की राजनीति बन्द किये जाने, दोषी अधिकारियों को हटाये जाने एवं मुख्यमंत्री के त्यागपत्र की मांग को लेकर माकपा, भाकपा, माले व आई पी एफ के नेतृत्व में 2 अक्तूबर को काला दिवस मना रहे हैं व धरना दे रहे हैं!
काला दिवस व गाधीं प्रतिमा के सामने धरना का नेतृत्व माकपा के जिला सचिव राम अचल यादव, भाकपा के जिला सचिव शुकदेव मिश्रा, भाकपा ( माले) जिला सचिव अनिल पासवान, आई पी एफ प्रवक्ता अजय राय, जनवादी महिला समिति के अध्यक्ष लालमनि विश्वकर्मा, किसान नेता लालचंद यादव, परमानन्द कुशवाहा, रामनिवास पाण्डेय, शिवमुरत राम सहित कई लोगों ने किया! संचालन शम्भुनाथ यादव ने किया.

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

द सर्जिकल न्यूज़

ख़बरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें ईमेल thesurgicalnews@gmail.com

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: