ताजातरीन

विश्व स्तनपान दिवस पर आयोजित हुआ गोष्ठी

 

ग़ाज़ीपुर।1 अगस्स्त को पूरे विश्व में विश्व स्तनपान दिवस के रूप में मनाया जाता है। जिसको लेकर सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र मोहम्मदबाद पर अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ उमेश कुमार की अध्यक्षता में एक गोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें नवजात शिशु को जन्म लेने के बाद से ही स्तनपान कराने के फायदे के बारे में चर्चा किया गया। इस गोष्ठी में ब्लॉक की आशा कार्यकर्ता, आशा संगिनी के साथ ही एएनएम मौजूद रही।

एसीएमओ डॉ उमेश कुमार ने बताया कि स्तनपान के थीम स्तनपान को बढावा, शिक्षा एवं सहयोग विषय पर जानकारी दिया गया। स्तनपान दिवस पर हम सभी धात्री महिलाओं को जरूर जागरूक करे की अपने बच्चे को 6 माह तक सिर्फ स्तनपान कराऐ। एवं छ माह के बाद संतुलित पुरक आहार दे। स्तनपान कराने से बच्चे के चौमुखी विकास होता है। शारिरिक एवं मानसिक शक्ति का विकास के साथ साथ नवजात बच्चों का पहला प्राकृतिक टिकाकरण होता है। माँ के पहले दुध को अमृत के समान माना जाता है। स्तनपान शिशु मृत्यु दर एवं कुपोषण कि स्थिति को कम करते हुऐ डायरिया एवं निमोनिया की संभावना को खत्म करता है। स्तनपान कराने वाली महिलाओं को भी इसके अनेक फायदे होते है।

सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र के अधीक्षक डॉ आशीष राय ने बताया कि स्तनपान कराने से महिलाओं में प्रसव पश्चात बल्ड लास कम होना , ब्रैस्ट कैंसर का न होना, बच्चे दानी के कैसर का क्षीण होना, प्रसव पश्चात दुबारा गर्भ धारण मे पर्याप्त समय का मिलना इत्यादि है। जो महिलाओं को लाभ मिलते है। स्तनपान से मातृ एवं शिशु मे ममता का विकास होता है । स्तनपान हमारे बजट को भी सही रखता है। जो हम बजार मे महगे बंद डिब्बों का इसतेमाल करते है। इस अवसर पर सभी क्षेत्रीय कर्मचारियों को निर्देश दिया गया की स्तनपान सप्ताह के दौरान विशेष रूप से सभी गभर्वती महिलाओं एवं धात्री महिलाओं को स्तनपान पर जानकारी देते हुऐ उनके व्यवहार परिवर्तन करते हुऐ जन जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन किया जाऐ।

डब्ल्यूएचओ के एसएमओ डॉ विनय शंकर ने बताया कि प्रत्येक अस्पताल , स्तनपान समबन्धित अपनी नीति बनाए और इस नीति से सभी स्वास्थ्य कर्मियों को अवगत कराऐ। जन्म के बाद किसी भी तरह का अन्य पेय पदार्थ जैसे पानी, शहद, जन्म घुटी न दे। बोतल से दूध न पिलाए इससे बीमारिया होने का खतरा बढ जाता है। जन्म के तुरंत बाद एक घंटे के अंदर सभी स्तनपान कराऐ,कोई भी कृत्रिम निप्पल या चूसनी शिशु को नही दे। शिशु जितनी बार चाहे उतनी बार स्तनपान कराऐ।

बैठक मे बीपी एम संजीव कुमार, बीसीपीएम मनीष कुमार, डब्ल्यूएचओ के अनिल कुमार श्रीवास्तव , राजकुमारी , सुनिता भारती,सुशीला पासवान, रीता राय इत्यादि शामिल रही।

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: