अपराधउत्तर प्रदेशताजातरीनराष्ट्रीय

लखीमपुर खीरी कांड में आशीष मिश्रा की जमानत सुप्रीम कोर्ट ने की ख़ारिज, एक सप्ताह के अंदर सरेंडर का दिया आदेश

किसान नेता राकेश टिकैत (Farmer Leader Rakesh Tikait) ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट से ही न्याय की उम्मीद है. राकेश टिकैत की माने तो सुप्रीम कोर्ट लखीमपुर खीरी घटना की शुरुआत से ही मानिटरिंग कर रहा है और सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने यूपी सरकार (UP Government) को फटकार भी लगाया था.

द सर्जिकल न्यूज़ डेस्क: लखीमपुर खीरी कांड मामले (Lakhimpur Kheri Case) में इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad Highcourt) द्वारा आशीष मिश्रा को मिली जमानत को सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया है अपनी सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि इलाहाबाद हाईकोर्ट (Allahabad HighCourt) ने पीड़ित पक्ष का ध्यान नहीं रखा इसके साथ ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने आशीष मिश्रा को एक सप्ताह के अंदर सरेंडर करने का भी निर्देश दिया है.

आपको बता दें कि आशीष मिश्रा केंद्रीय राज्य मंत्री अजय मिश्र टेनी (Ajay Mishra Teni) के बेटे हैं किसान आंदोलन के दौरान लखीमपुर (Lakhimpur) में किसानों पर गाड़ी चढ़ा दी थी. उसी मामले में आशीष मिश्रा (Ashish Mishra) का भी नाम सामने आया था.

इससे पहले इलाहाबाद हाईकोर्ट ने लखीमपुर खीरी कांड मामले (Lakhimpur Kheri Case) में आशीष मिश्रा को जमानत दे दिया था लेकिन अब हाईकोर्ट (Highcourt) के आदेश को सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने खारिज कर दिया और जमानत पर रोक लगा दी.

अपनी सुनवाई में सुप्रीम कोर्ट ने यह भी कहा कि हाईकोर्ट ने पीड़ित पक्ष का ध्यान नहीं रखा. सुप्रीम कोर्ट ने इस मामले को फिर से सुनवाई के लिए इलाहाबाद हाईकोर्ट को वापस भेजा है.

राकेश टिकैत ने कहा- सुप्रीम कोर्ट से है उम्मीद

इस मामले में किसान नेता राकेश टिकैत (Farmer Leader Rakesh Tikait) ने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट से ही न्याय की उम्मीद है. राकेश टिकैत की माने तो सुप्रीम कोर्ट लखीमपुर खीरी घटना की शुरुआत से ही मानिटरिंग कर रहा है और सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने यूपी सरकार (UP Government) को फटकार भी लगाया था.

राकेश टिकैत ने कहा कि एसआईटी (Special Investigation Team) की टीम गठित हुई उसने जो रिपोर्ट दी थी उसके आधार पर काम किया जाए. यूपी सरकार (UP Government) ने ठीक से काम नहीं किया है जिसकी वजह से आशीष मिश्रा को हाईकोर्ट से बेल मिली थी.

सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई की तो जमानत को खारिज कर दिया हमें सुप्रीम कोर्ट से ही उम्मीद है. 25 तारीख से लखीमपुर जा रहे हैं. लखीमपुर में कमेटी बनाएंगे.

आशीष मिश्रा को बचाने का सरकार पर भी लगते रहे है आरोप

आपको बता दें किसान इस मामले में सरकार द्वारा आशीष मिश्रा को बचाने का आरोप लगाते हैं ऐसा इसलिए क्योंकि इस मामले का मुख्य आरोपी आशीष मिश्रा पुत्र है.

आशीष मिश्रा को हाई कोर्ट के जमानत पर रिहा किया गया था. सुप्रीम कोर्ट ने उस आदेश को खारिज कर दिया है और एक सप्ताह के अंदर सरेंडर करने का आदेश दिया है.

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

द सर्जिकल न्यूज़

ख़बरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें ईमेल thesurgicalnews@gmail.com

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: