ताजातरीनराष्ट्रीयसाहित्य

दिवंगत हिन्दी साहित्यकारों का श्राद्ध…

इंदौर: देश में हिन्दी भाषा में ऐसे कई साहित्यकार हुए जिनकी वंशावली नहीं है अथवा उनके तर्पण-श्राद्ध संबंधित सामाजिक उत्तरदायित्व का कोई निर्वहन नहीं करता।

हिन्दी के दिवंगत साहित्यकारों के सभी उत्तरकर्मों के निर्वाहन के लिए भारत में हिन्दी भाषा प्रचार के लिए कार्यरत मातृभाषा उन्नयन संस्थान ने बीड़ा उठाया है। गुरुवार को इंदौर में ही सर्वपितृ अमावस्या के दिन संस्थान द्वारा श्राद्ध कर्म निमित्त ब्राह्मण भोज रखा ।

संस्थान की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष डॉ नीना जोशी, राष्ट्रीय कोषाध्यक्ष शिखा जैन, रचना जोशी आदि सदस्यों द्वारा श्राद्धकर्म करवाया गया।

संस्थान के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ. अर्पण जैन ‘अविचल’ ने कहा कि ‘जब हम हिन्दी को माँ कहते हैं तो उस माँ के पुत्र-पुत्रियों के उत्तरकर्मों की ज़िम्मेदारी भी हमारी है, हम उसी दायित्व का निर्वहन कर रहे हैं। निराला, महादेवी वर्मा जैसे हिन्दी साहित्यकारों ने अपना सम्पूर्ण जीवन हिन्दी को समर्पित किया है, अब हिन्दू संस्कृति के अनुसार उनके उत्तमकर्मों का दायित्व हमारा बनता है। हम उसी का निर्वहन कर रहे हैं।’

निकट भविष्य में संस्थान द्वारा जिनके गोत्र इत्यादि की सम्पूर्ण जानकारी उपलब्ध होती जाएगी उनका विधि-विधान से गया जी में पिण्ड दान एवं तर्पण किया जाएगा।

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

द सर्जिकल न्यूज़

ख़बरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें ईमेल thesurgicalnews@gmail.com

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: