Qries
ताजातरीन

शासन के सख्त निर्देशों के बाद, गड्ढा मुक्त सड़कों का दावा खोखला

सेवराई। तहसील सेवराई क्षेत्र में गड्ढा मुक्त अभियान कागज में ही सिमट कर रह गया। 30 नवंबर तक सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का अभियान केवल दिखावा बनकर रह गया। अभी भी सड़कों में खतरनाक गड्ढे है, जिसमें गिरकर वाहन सवार हादसे का शिकार हो रहे हैं। सड़कों को गड्ढामुक्त करने के लिए किया गया पैचवर्क भी बेतरतीब ढंग से करने से वाहन चालक का गिरना तय है।
शासन के गड्ढामुक्ति अभियान के तहत लोक निर्माण विभाग को पहले 15 नवंबर तक सड़कों को गड्ढे भरे जाने थे, फिर समय सीमा बढ़ाकर 30 नवंबर तक कर दी गई थी। बाद में विभाग के स्थानीय अधिकारियों ने दावा किया कि पांच दिसंबर तक सड़कों के गड्ढे भर लिए जाएंगे। बार-बार मियाद बीतने के बाद भी कई सड़कों के गड्ढे नहीं भरे जा सके हैं। शासन का गड्ढा मुक्त का फरमान आने पर तेजी से सड़कों को गड्ढा मुक्त करने का अभियान चलाया गया। कई सड़कों को गड्ढा मुक्त किया गया। लेकिन, करहिया से अठहठा-नौली सड़क पर बने गड्ढे इस अभियान में भी नहीं भरे गए।
नेशनल हाईवे 124 सी से लगभग 6 किमी लंबा करहिया -अठहठा-नौली व बसुका सड़क की स्थिति काफी खराब है सड़क पूरी तरह से गड्ढे मे तब्दील हो गया है। सड़क की स्थिति इतनी खराब है कि बरसात होने पर वाहन चलना तो दूर पैदल भी आना-जाना मुश्किल हो जाता है। इस समय बाइक सवार लोग सड़क में उभरे गड्ढे में फंसकर कब गिर जाए पता नहीं चलेगा। वाहनों के गुजरने से उड़ता धूल का गुब्बारा सड़क पर आवागमन करने वाले लोगों सहित सड़क के दोनों तरफ खेतों में काम करने वाले किसानों को काफी परेशानी उठानी पड़ रही है। सड़क पर जगह-जगह ईट के टुकड़े और भी खतरनाक साबित हो रहा है। अशोक सिंह, हरिओम सिंह, मनीष सिंह, सुरेंद्र यादव, रविशंकर उपाध्याय, रजत सिंह आदि का कहना है कि गड्ढों की वजह से आए दिन हादसे होते हैं, लेकिन विभाग इससे सबक नहीं ले रहा है। लोगों ने इस सड़क की मरम्मत कराकर गड्ढा मुक्त कराने की मांग किया।
अवर अभियंता लोकनिर्माण विभाग शालिग्राम ने बताया कि सड़क को पुनर्निर्माण योजना के तहत प्रस्ताव भेजा गया है। पास होते ही सड़क का कार्य कराया जाएगा।

Qries
Back to top button

Copyright || The Surgical News

%d bloggers like this: