ताजातरीन

प्रशासन बाढ़ पीड़ितों को राहत सामग्री उपलब्ध कराने में युद्ध स्तर जुटा 

ग्राम हसनपुरा में ग्राम प्रधान उपेंद्र यादव उर्फ कल्लू ने बाढ़ पीड़ितों में राहत सामग्री वितरित करते हुए

 

 

सेवराई। तहसील क्षेत्र में‌ गंगा का कहर कम होते ही प्रशासन अब लोगों तक राहत पैकेट/ सामाग्री उपलब्ध कराने में‌‌ युद्धस्तर में जुटा है ताकि कोई भी प्रभावित परिवार के लोग लाभ से वंचित न रह जाए। सेवराई एसडीएम राजेश प्रसाद चौरसिया ने तहसीलदार अमित शेखर व नायब तहसीलदार की उपस्थिति में राजस्व निरीक्षक और 5 ,5 लेखपालों को लगाकर ग्राम नारायणपुर उर्फ हरिहरपुर, कल्याणपुर सादोपुर उर्फ रामपुर, परमानंदपुर, दुल्लापुर, रेवतीपुर, तिरुपुर,नसीरपुर, हसनपुरा, और टोंगा में बाढ़ प्रभावित लोगों में राहत पैकेट वितरित कराया।

 

बाढ प्रभावित लोगों को वितरित किए जाने वाले  इस राहत  सामग्री में  लाई (5 किलो), भुना चना ( 2 किलो), गुड (1 किलो), 1 पैकेट माचिस, एक पैकेट मोमबत्ती, एक पैकेट नहाने का साबुन तथा दूसरे पैकेट में आटा 10 किलो ग्राम, चावल 10 किलो ग्राम, अरहर दाल 2 किलो ग्राम, नमक 500 ग्राम, हल्दी 250 ग्राम, मिर्च 250 ग्राम, धनिया सब्जी मसाला 250 ग्राम, रिफाइंड तेल 1 लीटर था। इसके अतिरिक्त 10 किलो आलू पैकेट में दिया गया।

 

ग्राम टोंगा में भारतीय जनता पार्टी के महामंत्री ओमप्रकाश राय , विश्व प्रताप सिंह, ग्राम प्रधान टोंगा पंकज राय की उपस्थिति में बाढ़ पीड़ितों में बाढ़ राहत सामग्री का वितरण किया गया। ओमप्रकाश राय ने बाढ़ पीड़ितों को आश्वासन देते हुए कहा कि सरकार उनके दरवाजे पर खड़ी है।हर एक व्यक्ति को चाहे किसी भी मजहब का हो समान रूप से मदद की जायेगी।

वही हसनपुरा में ग्राम प्रधान उपेंद्र यादव उर्फ कल्लू , अरविंद यादव, जीवुत राम की उपस्थिति में बाढ़ पीड़ितों में बाढ़ राहत सामग्री वितरण किया गया।ग्राम प्रधान ने बाढ़ पीड़ितों को आश्वासन देते हुए कहा कि शासन के तरफ से पीड़ित को हर संभव मदद किया जायेगा। हर एक व्यक्ति तक उसका लाभ पहुंचाया जाएगा।

 

वही भारी भीड को देखते हुए एसडीएम राजेश प्रसाद चौरसिया खुद राहत वितरण केन्द्र मातहतों संग कैम्प कर अपने निगरानी में पुलिस सुरक्षा के बीच प्रभावित एक लोगों तक राहत पैकेट वितरण कराने में जुटे रहे।

 

एसडीएम सेवराई राजेश प्रसाद ने बताया कि शासन द्वारा बाढ़ पीड़ितों को हर संभव मदद की जाएगी। कोई प्रभावित परिवार या व्यक्ति राहत सामाग्री से वंचित नहीं रहेगा ।उन्होनें मातहतों को सख्त हिदायत दिया कि सूची बनाने में किसी तरह की लापरवाही न बरती जाए,शिकायत मिलने पर सम्बन्धित के खिलाफ सख्त कार्यवाई की जायेगी। कहा कि गंगा का जलस्तर में कमी के बावजूद अभी सतर्कता जरूरी है, वहीं प्रशासन हर स्थिति पर पैनी नजर बनाए हुए है।

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: