गाज़ीपुर: द सर्जिकल न्यूज़ की सूचना देने पर एसडीएम मोहम्मदाबाद और मोहम्मदाबाद कोतवाल तुरन्त ही पहुंच गए। सूचना भी ऐसी थी जो लोगों के मन में एकबार फिर बवाल मचा दे। सूचना थी शवों की।

शव वही जो कुछ दिन पहले लोकल मीडिया से लेकर मेन स्ट्रीम मीडिया में छाया हुआ था। चारों तरफ सभी के मन में सवाल उठ रहा था मौतों के आंकड़ों को लेकर। आंकड़े सच हैं या फिर दबाएं गए है छुपाये गए हैं।

तो हम पहुंच गए थे गाज़ीपुर जनपद अंतर्गत मुहम्मदाबाद कोतवाली अंतर्गत सुल्तानपुर घाट पर। हमने जब जानकारियां इकट्ठी की तो मंगलवार को 29 लोगों के अंत्येष्टि की सूचना मिली।

वहां के रविन्द्र पासवान ने बताया कि आज 29 लोगों की अंतेष्टि की गई है। कल कुछ मामला स्पष्ट हो पायेगा क्योंकि हिन्दू धर्म में मान्यता है कि मंगलवार के दिन अंत्येष्टि नहीं की जाती है। अब तक सबसे अधिक एक दिन में 96 लोगों की अंत्येष्टि यहां की जा चुकी है।

फिर हम पहुंच गए घाट से तकरीबन 200-350 मीटर दूर पूर्व की तरफ। और हमनें देख लिए दर्जनों की संख्या में शव जो गंगा के किनारे लगे हुए थे। कुछ पानी में तैर रहे थे। एसडीएम महोदय को हमने कॉल मिलाया तो उन्होंने पूछ लिया “देखे हो?” मैंने कहा- “वहीं खड़ा हूँ।” फिर वीडियो भी भेज दिया।

हालांकि एसडीएम महोदय ने फुर्ती दिखाई और तुरन्त मौके पर मोहम्मदाबाद कोतवाल सहित थाना प्रभारी मय फोर्स मौके पर पहुंच गए। जिकसे बाद एसडीएम ने शवों को निस्तारित करने के लिए आदेश दिया।

जब वह सफाई कर्मियों की चेकिंग करने लगे तो चार सफाई कर्मी अनुपस्थित मिले। एसडीएम महोदय ने बीडीओ को आदेश दिया कि अनुपस्थित सफाई कर्मियों का एक दिन का वेतन रोक दिया जाए। खैर लेकिन सवाल तो अभी भी हैं मौतों के आंकड़ों को लेकर।

व्हाट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए क्लिक करें

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

Leave a Reply