ताजातरीन

कृषि विज्ञान केन्द्र पीजी कालेज गाजीपुर में प्रशिक्षित किसानों को मिला जमुनापारी बकरी

गाजीपुर। कृषि विज्ञान केन्द्र, पी0जी0 कालेज, गाजीपुर द्वारा मंगलवार को आर्या प्रोजेक्ट के अन्तर्गत प्रशिक्षित किसानों को मुख्य विकास अधिकारी श्रीप्रकाश गुप्ता ने जमुनापारी बकरी वितरित किया। जमुनापारी बकरी वितरण के दौरान उन्होंने कहा की किसानों एवं बकरी पालकों के लिए ‘बकरी पालन’ एक मुनाफे का व्यवसाय है। किसान भाई बकरी पालन कर अपनी आय को दुगुनी कर सकते हैं। प्रशिक्षण के दौरान केन्द्र के सीनियर साइंटिस्ट एण्ड हेड प्रभारी डा0 विनोद कुमार सिंह ने कहा कि जमुनापारी बकरी की नस्ल की बकरी अन्य नस्लों के मुकाबले में सबसे ऊंची और लंबी होती हैं। यह ज्यादा दूध देने के लिए भी प्रसिद्ध मानी जाती हैं। इस नस्ल की बकरी यूपी के इटावा, गंगा, यमुना और चंबल नदियों से घिरे क्षेत्र में ज्यादा पाई जाती हैं, इनके बकरे 2 साल में मांस देने के लिए तैयार हो जाते हैं, इनका वजन ज्यादा होता है, जिस कारण इनकी कीमत बहुत मिल जाती है, खास बात है कि इन बकरियों से दूध और मांस, दोनों ही बहुत अच्छा मिल जाता है, इनके मेमने भी अच्छी कीमतों पर बिक जाते हैं, बता दें कि इस नस्ल के वयस्क नर का औसत वजन 70 से 90 किलोग्राम का होता है, साथ ही मादा का वजन 50 से 60 किलोग्राम का होता है, जमुनापारी बकरी अच्छा दूध दे सकती है, जिसको पशुपालक आसानी से बाजार में बेच सकते हैं, इसका दूध मेडिसनल के लिए भी उपयोग किया जाता है, ऐसे में इनके दूध की कीमत अच्छी मिलती है, इनके दूध में मिनरल और सॉल्ट की मात्रा अच्छी होती है। इस अवसर पर केन्द्र के डा0 डी0के0 सिंह, डा0 एस0के0 सिंह, आशीष कुमार वाजपेयी, मनोज कुमार मिश्रा, आशुतोष सिंह, डा0 पी0के0 सिंह, सुनील कुमार एवं मनोरमा सहित कुल 25 बकरी पालक उपस्थित थे।

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: