ताजातरीन

जन संघर्ष और जन सरोकार की पत्रकारिता के पर्याय थे अभय नारायण -प्रदीप कुमार

गाजीपुर। काशी पत्रकार संघ के पूर्व अध्यक्ष प्रदीप कुमार ने कहा है कि स्वर्गीय अभय नारायण सिंह जन सरोकार और जन संघर्ष की पत्रकारिता के पर्याय थे। वह केवल गाज़ीपुर के नहीं, मेरे जैसे पत्रकारों के भी प्रेरणा स्रोत थे।
गुरूवार को जिला पंचायत, गाज़ीपुर के सिद्धेश्वर प्रसाद सभागार में स्व. अभय नारायण की जयन्ती पर आयोजित ” अभय नारायण सिंह, सामाजिक सरोकार और पत्रकारिता संगोष्ठी /श्रद्धांजलि सभा में बतौर मुख्य अतिथि काशी पत्रकार संघ के पूर्व अध्यक्ष प्रदीप कुमार ने कहा कि उनके भीतर समाज के अंतिम आदमी के प्रति गहरी संवेदना थी। उनकी कलम ने गांव और किसान के आस-पास की हलचलों को बारीकी से पकड़ा और उसे तथ्य के आधार पर मजबूती से समाज और सरकार के सामने रखा। संगोष्ठी और श्रद्धाजंलि सभा की शुरुआत स्व. अभय नारायण सिंह के चित्र पर माल्यार्पण और उसके समक्ष दीप प्रज्वलन से हुई। इस अवसर पर वाराणसी से आये विशिष्ट अतिथि और सम्पादक ब्रजेश कुमार राय शर्मा ने अभय नारायण से जुड़ी अपनी स्मृतियों को साझा करते हुए कहा कि वह अच्छे पत्रकार के साथ बहुत अच्छे समाजिक कार्यकर्ता भी थे।
जंगीपुर के विधायक डा. वीरेन्द्र यादव ने अपने पिता पूर्व मंत्री स्व0 कैलाश यादव और अभय नारायण के सम्बन्धों का जिक्र करते हुए कहा कि आज की विषम परिस्थिति में बाबू अभय नारायण सिंह और विजय बाबू ( विजय कुमार ) जैसों का न होना बहुत खल रहा है। दोनों के रास्ते पर चलकर ही इस विषम परिस्थिति का मुकाबला सम्भव है। सपा के जिलाध्यक्ष रामधारी यादव ने अभय नारायण के वैचारिक प्रतिबद्धता को याद करते हुए कहा कि वह आम आदमी के अच्छे दोस्त थे। इस अवसर पर समाजसेवी विवेक कुमार सिंह शम्मी, शारदानन्द राय, लुटुर, रामनाथ ठाकुर, दिनेशचन्द्र पाण्डेय, अनिल उपाध्याय, विनय कुमार सिंह, पद्माकर पाण्डेय, मधुरेश यादव, अशोक सिंह, संजय सिंह आदि ने भी अपने अपने संस्मरण सुनाकर स्वर्गीय अभय नारायण को श्रद्धांजलि अर्पित की।

इस मौके पर स्व0 अभय नारायण के व्यंग लेख की पुस्तक “देशकाल के दंश“ मुख्य अतिथि प्रदीप कुमार, विशिष्ट अतिथि बजेश कुमार राय शर्मा और डा. वीरेन्द्र यादव द्वारा पत्रकार श्री विनोद पांडेय, श्री चन्द्रकुमार तिवारी और श्री अविनाश प्रधान को सप्रेम भेंट की गई। समाजसेवी विवेक कुमार शम्मी सिंह, संजय कुमार राय उर्फ मंटू राय और पत्रकार रमेश यादव ने स्वर्गीय अभय नारायण के पुत्र प्रदीप नारायण सिंह को उक्त पुस्तक भेंट की। सर्वश्री विजय बहादुर सिंह, वीरेन्द्र यादव, सुनील यादव, पप्पू यादव, तेजनारायण राय, अशोक कुमार श्रीवास्तव, विनोद कुमार पाण्डेय, चन्द्र कुमार तिवारी, प्रदीप शर्मा, राममनोज त्रिपाठी, संजय कुमार राय उर्फ मन्टू राय, गौरव कुमार श्रीवास्तव, आशीष सिंह, कमलेश यादव, शशिकान्त तिवारी, जिला शासकीय अधिवक्ता कृपाशंकर राय, अभय कुमार तिवारी, विपलव कुमार, अरूण कुमार तिवारी, शिवप्रताप तिवारी, रतन, सिवेश पाण्डेय, अभिषेक सिंह, रमेश यादव, दुर्गविजय सिंह, आशुतोष त्रिपाठी, सत्येंद्र शुक्ल, अविनाश सिंह,
अजय राय बबलू, बेदू, अनिल कश्यप, देवब्रत विश्वकर्मा, जयप्रकाश पाण्डेय आदि संगोष्ठी और श्रद्धाजंलि सभा में प्रमुख रूप से सक्रिय रहे। कार्यक्रम का सरस संचालन पत्रकार अविनाश प्रधान ने किया। आगन्तुकों का साभार कार्यक्रम के अध्यक्ष धीरेन्द्र नाथ श्रीवास्तव ने व्यक्त किया और कहा ,
आज नहीं आया है लेकिन, कर यकीन वह कल आएगा।
इसी बाग में, इसी डाल पर फिर से मीठा फल आएगा।
संगोष्ठी और श्रद्धांजलि सभा में नामचीन शायर बादशाह राही ने अपनी गज़लों के माध्यम से श्रद्धाजंलि अर्पित की।

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: