ग़ाज़ीपुर: 102 और 108 एंबुलेंस सेवा जो साल 2012 से उत्तर प्रदेश में संचालित की जा रही है। सोमवार से इससे संबंधित कर्मचारी अपने कई विभिन्न मांगों को लेकर हड़ताल पर चले गए हैं। जिसको लेकर उत्तर प्रदेश शासन के द्वारा इन लोगों की हड़ताल को अवैध करार देते हुए एस्मा लगा दिया गया है। जिसके बाद से किसी भी तरह की धरना और प्रदर्शन अवैधानिक माना जाएगा।

102 और 108 एंबुलेंस सेवा के नोडल अधिकारी और एसीएमओ डॉ डीपी सिन्हा ने बताया कि उत्तर प्रदेश शासन की सचिव अपर्णा यू के द्वारा महानिदेशक चिकित्सा एवं स्वास्थ्य सेवाएं, एवं महानिदेशक परिवार कल्याण उत्तर प्रदेश को एक पत्र भेजा गया है।

जिसमें प्रदेश में संचालित 108 एंबुलेंस और एएलएस एंबुलेंस सेवा को एस्मा के दायरे में लाया गया है। ताकि इस सेवा से जुड़े हुए कर्मचारी के हड़ताल से किसी भी मरीज की सेवा में दिक्कत ना आए या फिर उनकी हड़ताल की वजह से उनकी जान ना चली जाए।

उन्होंने बताया कि कार्मिक विभाग के द्वारा एक अधिसूचना 25 मई 2021 के द्वारा प्रदेश में उत्तर प्रदेश एस्मा एक्ट 1996 के सेक्शन 3 के सब सेक्शन (1) के अंतर्गत अति आवश्यक सेवाओं के संबंध में अगले छह माह तक हड़ताल को निषिद्ध किए जाने हेतु निर्देश दिए गए हैं।

जिसके तहत बताया गया है कि प्रदेश में अति आवश्यक सेवाओं पर एस्मा प्रभावी होने के दृष्टिगत यदि कर्मचारी संघ अथवा किसी अवैधानिक अनुचित मांग के कारण एंबुलेंस सेवा का संचालन बाधित करने का प्रयास किया जाए तो संस्था द्वारा एस्मा के अंतर्गत जिला प्रशासन से आवश्यक सहयोग प्राप्त कर सकता है।

किंतु यदि 108 /102 एंबुलेंस सेवा में हड़ताल के कारण कोई बाधा आती है या संचालन प्रभावी होता है तो इस हेतु केवल सेवा प्रदाता फर्म को ही उत्तरदाई मानते हुए अनुबंध में दिए गए प्रावधानों के अनुसार कार्रवाई की जाए।

इन्हीं सब को देखते हुए सोमवार की सुबह एंबुलेंस कर्मचारियों के द्वारा शुरू की गई हड़ताल को खत्म कराने के लिए उनके धरना स्थल पर खुद प्रभारी मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ के के वर्मा, नोडल डॉ डीपी सिन्हा,ए सीएमओ डॉ प्रगति कुमार, एसडीएम सदर अनिरुद्ध सिंह और क्षेत्राधिकारी सदर ओजस्वी चावला इन लोगों से मिलकर एस्मा लगाए जाने के संबंध में जानकारी दिया।

उन्हें अगले आधे घंटे में धरना को समाप्त करने की बात कही। ऐसे में एंबुलेंस कर्मचारियों के द्वारा हड़ताल या धरना को समाप्त नहीं किया जाता है तो अगली कार्रवाई के लिए वह स्वयं जिम्मेदार होंगे।

व्हाट्सएप्प ग्रुप में जुड़ने के लिए क्लिक करें

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

Leave a Reply