ताजातरीन

सेवराई:अवशेष जलाने से मित्र जीव भी होते है नष्ट: इंद्रेश वर्मा

सेवराई। तहसील क्षेत्र के सायर गांव में सम्मत पर ग्राम प्रधान प्रतिनिधि संतोष कुमार यादव की अध्यक्षता में द मिलियन फार्मर्स पाठशाला संपन्न हुआ। जिसमें तकनीकी सहायक इन्द्रेश कुमार वर्मा ने किसानों से धान कटाई के बाद पराली न जलाने को की अपील की। उन्होंने कहा कि किसान धान की कटाई के बाद फसल अवशेष न जलाए बल्कि फसल अवशेष को विभिन्न कृषि यंत्रों के माध्यम से मृदा में मिलाएं। कृषिगत भूमि में कार्बनिक पदार्थ की मात्रा निरंतर घट रही है। फसल अवशेष मिट्टी में मिलाने से मृदा में कार्बनिक पदार्थों की मात्रा बढ़ेगी ,जबकि फसल अवशेष जलाने पर पर्यावरण प्रदूषण होगा साथ ही मृदा में मित्र जीव भी नष्ट हो जाते हैं ।चारे की समस्या के साथ मृदा तापमान में वृद्धि होती है। किसान फसल अवशेष को मिलाकर कार्बनिक खाद बनाए और पर्यावरण प्रदूषण से बचें। कृषि विभाग के द्वारा समय-समय पर प्रमोशन आफ एग्रीकल्चरल मैकेनाइजेशन फार इन सीटू मैनेजमेंट आफ क्रॉप रेजीड्यू योजना के अंतर्गत 50% अनुदान पर पहले आओ पहले पाओ के आधार पर टोकन जनरेट करा कर अनुदान दिया जाता है । प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना अंतर्गत एच. डी. एफ .सी .एर्गो बीमा के प्रतिनिधि मोहित श्रीवास्तव ने फसल बीमा से संबंधित विस्तृत जानकारी दी। इस मौके पर राजेश यादव, ओम प्रकाश यादव, छोटेलाल चौधरी,जोगेन्द्र यादव,रामकृत चौधरी।

द सर्जिकल न्यूज़ डेस्क

ख़बरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें- thesurgicalnews@gmail.com
Back to top button

Copyright || The Surgical News

%d bloggers like this: