गाजीपुरताजातरीन

रसोइयों की मांग, सुनो सरकार

सेवराई (मारूफ खान): राष्ट्रीय मध्यान भोजन रसोईया फ्रंट के बैनर तले सैकड़ों रसोइयों ने मंगलवार को अपनी विभिन्न सूत्रीय मांगों के तहत प्रदर्शन करते हुए उप जिलाधिकारी को 9 सूत्रीय पत्रक सौंपा।

उप जिलाधिकारी को दिए गए पत्रक में बताया कि मध्यान्ह भोजन योजना के अंतर्गत प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्य कर रहे रसोइयों को काम की सुरक्षा व जीने लायक पारिश्रमिक का भुगतान करने तथा अन्य ज्वलंत समस्याओं के निराकरण करने की अपील की गई।

जिला अध्यक्ष शंभू नाथ राय ने बताया कि एमडीएम योजना के अंतर्गत प्राथमिक व उच्च प्राथमिक विद्यालयों में कार्यरत रसोइयों की स्थिति वर्तमान समय में बंधुआ मजदूर से भी बदतर है। क्योंकि ना तो काम की सुरक्षा है और ना ही जीने लायक पारिश्रमिक दिया जाता है और ना ही लिखित रूप से अनुबंधित किया जाता है।

बताया कि विद्यालयों में मनमाने ढंग से रखा जाता है और उसी तरह मनमाने ढंग से बिना कारण बताए हटा दिया जाता है। रसोइयों का कार्य साई रुकते जिम्मेदारी पूर्वक 1995 से अभी तक लगभग 25 वर्षों से सेवा करने के पश्चात भी इनके काम की अनिश्चितता बनी हुई है इन्हें बार-बार बदलना वैदिक परंपराओं व मानवाधिकार के खिलाफ है।

कार्यरत रसोइयों में से ज्यादातर महिलाएं दलित और अत्यंत गरीब है। जब तक इनको कानूनी संरक्षण नहीं दिया जाएगा तब तक इनका शोषण बंद नहीं किया जा सकता। सभी ने एक स्वर में पिछले 5 महीनों से रुका हुआ मानदेय भुगतान करने की मांग की बताया कि अगर ऐसा नहीं हुआ तो हम सड़क पर उतरकर प्रदर्शन को बाध्य होंगे।

इस मौके पर कलावती देवी, प्रभावती, नूरजहां, चंद्रावती, रेशमा, रंभा, तेतरा, किरण, सुषमा, सरस्वती, प्रेमा, रुक्मिणी, शहजादी, आदि सहित सैकड़ों की संख्या में रसोईया मौजूद रहे।

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

द सर्जिकल न्यूज़

ख़बरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें ईमेल thesurgicalnews@gmail.com

Leave a Reply

Back to top button
error: Content is protected !!
%d bloggers like this: