अध्यात्मगाजीपुरताजातरीनपूर्वांचल

जहरीले करैत ने युवक को काटा, मौत

गाज़ीपुर (यशवंत सिंह): सांपों काटने पर अभी भी ग्रामीण इलाकों में लोग भक्ति और आस्था पर विश्वास रखते हैं और सांप काटने पर स्थानीय पूजा पाठ के अलावा ओझा सोखा के पास जाते हैं। इसी अंधविश्वास के चलते जहरीले करैत सांप के काटने के बाद समय पर इलाज न मिलने से एक युवक की जान चली गयी।


  • भारत के टॉप चार जहरीले सांपों में है करैत।
  • काटने के एक घंटे में हो सकती है इंसान की मौत।
  • भारत में हर साल दश हजार से अधिक जाने करैत के काटने से जाती हैं ।

 

करीमुद्दीनपुर थाना क्षेत्र के बाराचवर गांव निवासी तस्लीम उम्र 14 वर्ष पुत्र शौकत राईनी गुरूवार की भोर करैत सांप ने काट लिया। प्राप्त सूचना के अनुसार तस्लीम अपने अम्मी और अब्बू के साथ खाना खाकर चौकी पर सो गया।

गुरूवार की भोर में दीवार की सहारे जहरीला करैत सांप चौकी पर चढ़ गया और तस्लीम को बाये कन्धे और गर्दन मे दो जगह दंश कर दिया । तस्लीम इस बात को अपने अबू को बताया कि हमे कुछ काट लिया है। परिवार के सभी लोग जग गये और देखे कि दीवार के सहारे करैत साप चिपका है तो साप को लाठी के सहारे बाहर फेके।

लेकिन आधे घंटे तक साप बाहर से घर के अन्दर प्रवेश कर जाता था। कड़ी मसक्कत से किसी तरह साप को लोग बाहर करके धान के खेत मे भगाये। सावन माह के चलते सांप को लोग मार नही रहे थे।

इसके बाद परिजन तस्लीम को अमवां सती माई के स्थान पर ले गये। तीन चार घंटे के बाद जब राहत नही मिला तस्लीम को तो फिर परिजन फातिमा हास्पिटल मऊ ले गये वहा दवा ईलाज हुआ लेकिन तस्लीम का मृत्यु हो गयी। परिजन फिर उसको घर लेकर चले आये।

घर पर उसका झाड़ फूक कराने लगे। लेकिन तस्लीम मे कोई सुधार नही हुआ। फिर शुक्रवार की भोर मे तीन बजे के आस पास तस्लीम के पास वही करैत सांप पहुंच गया लोगो की नजर जब करैत साप पर पड़ी तो लोगो ने साप को मार दिया। इसके बाद तस्लीम को कबरिस्तान मे सुपुर्तेखाक कर दिया गया। शौकत राईनी को लोग ढाढ़स बधा रहे है।

हमारी खबरें पढ़ने के लिए शुक्रिया. फेसबूक, यूट्यूब पर लाइक और सब्सक्राइब करें. अपनी खबरें भेजने के लिए क्लिक करें और लगातार ख़बरों से अपडेट रहने के लिए प्ले स्टोर से हमारा एप्प जरूर इनस्टॉल करें.

द सर्जिकल न्यूज़

ख़बरों व विज्ञापन के लिए संपर्क करें ईमेल thesurgicalnews@gmail.com

Leave a Reply

Back to top button
%d bloggers like this: